JagranMP
JagranMP ePaper
www.jagranmp.com :: 19 August, 2017
शहर विशेष
भोपाल
एक्सपर्ट कमेटी की रिपोर्ट के बाद होगा सेंचुरियों से रेत उत्खनन
12 August 2015
भोपाल , सोन और चंबल घडिय़ाल सेंचुरी में स्थानीय लोगों को रेत खनन का फैसला अब एक्सपर्ट कमेटी की रिपोर्ट के बाद होगा। राज्य वन्य प्राणी संरक्षण बोर्ड के सदस्यों के विरोध के चलते केन-बेतवा परियोजना को भी क्लीयरेंस नहीं मिल सकी। इस परियोजना में पन्ना नेशनल पार्क की लगभग 50 वर्ग किमी का बफर जोन और कोर एरिया प्रभावित हो रहा है।
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में वल्लभ भवन में राज्य वन्य प्राणी संरक्षण बोर्ड की बैठक हुई। बैठक में सोन घडिय़ाल और चंबल घडिय़ाल सेंचुरी के पास रह रहे ग्रामीणों को रोजगार उपलब्ध कराने की मंशा से रेत खनन के प्रस्ताव सदस्यों के विरोध के चलते कोई निर्णय नहीं हो सका। बोर्ड के सदस्यों का कहना था कि इस प्रस्ताव को एक्सपर्ट कमेटी को सौंप दी जाए और कमेटी दो महीने में अपनी रिपोर्ट दें। रिपोर्ट के बाद सेंचुरी से रेत खनन के संबंध में निर्णय लिया जा सकेगा। राज्य सरकार के केन-बेतवा लिंक परियोजना को भी बोर्ड से क्लीयरेंस नहीं मिल पाई। सरकार के इस प्रस्ताव को विरोध बिलिंडा राइड, रंजीत सिंह, डा.एचएस पावला, अभिलाष खांडेकर, और पीएम लाड ने किया था। सदस्यों के विरोध के चलते मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रस्ताव को खारिज कर दिया।
बैठक में वन्य-जीव विशेषज्ञों ने मध्य प्रदेश में वन्य-जीव संरक्षण, विशेष रूप से बाघों, गिद्धों और बारहसिंगा के संरक्षण कार्य में मिली सफलता की मुक्त कंठ से सराहना की है। बोर्ड की बैठक में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि वनवासी परिवारों की आजीविका भी वन्य-जीव संरक्षण के साथ-साथ जरूरी है। उन्होंने कहा कि वन्य-जीव संरक्षण विशेषज्ञों के विचारों और सुझावों को नीति निर्देशों में शामिल किया जायेगा। बाघ संरक्षण विशेषज्ञ और बोर्ड की सदस्य सुश्री बिलिंडा राईट ने बताया कि कज़ाकिस्तान और कंबोडिया में भी पन्ना के बाघ संरक्षण की चर्चा है। पन्ना ने अब अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर वन्य-जीव संरक्षण की पाठशाला का दर्जा हासिल कर लिया है। कान्हा राष्ट्रीय उद्यान को 2015 का विजेता घोषित करते हुए अमेरिका की प्रतिष्ठित कंपनी ट्रिप ऐडवाईजर ने उत्कृष्टता का प्रमाण-पत्र दिया है। इसी प्रकार ट्रेवल ऑपरेटर्स  फॉर टाइगर्स ने सतपुड़ा टाइगर रिजर्व को उत्कृष्ट वन्य-जीव स्थल का दर्जा दिया है। बैठक में श्री चौहान के अलावा वन मंत्री गौरीशंकर शेजवार, मुख्य सचिवअंटोनी डिसा, विधायक सर्वश्री सुदर्शन गुप्ता, श्रीमती शशि ठाकुर और सांसद नागेन्द्र सिंह, बोर्ड के सदस्य डॉ. एच.एस. पाबला, वाईल्ड लाइफ ट्रस्ट ऑफ इंडिया के रंजीत सिंह, डॉ.सुरेन्द्र तिवारी एवं अन्य सदस्य एवं संबंधित विभाग के प्रमुख सचिव उपस्थित थे।


12-08-2015 500 में कनेक्शन लें और पाएं 24 घंटे पानी की गारंटी
12-08-2015 एक्सपर्ट कमेटी की रिपोर्ट के बाद होगा सेंचुरियों से रेत उत्खनन
12-08-2015 मास्टर प्लान में शामिल होंगे झीलों और नदियों के शरहद
12-08-2015 सांची विवि शुरू करेगा पीएचडी और ऑनलाइन कोर्स
12-08-2015 मासूम बेटे के सामने जेल में जहर खाने से महिला की मौत